-->
क्या औरंगाबाद में ऐसे रुकेगा कोरोना वायरस, जब आमख़ास मैदान मंडी में उड़ाई जा रही हो सोशल डिस्टन्सिंग दी धज्जिया

क्या औरंगाबाद में ऐसे रुकेगा कोरोना वायरस, जब आमख़ास मैदान मंडी में उड़ाई जा रही हो सोशल डिस्टन्सिंग दी धज्जिया

क्या कोरोना को अब भी हलके में ले रहे लोग, Social Distancing का नहीं हो रहा पालन 

औरंगाबाद  आमखास मैदान में भरी  हुई मंडी 
औरंगाबाद प्रतिनिधी- आदिल खान,
कोरोना वायरस से बचने और लढने के सिर्पâ यह दो उपाय है सोशल डिस्टन्सींग और लॉकडाऊन. महाराष्ट्र सरकार ने लॉकडाऊन का वक्त तो आगे बढा दिया है. लेकीन क्या वाकई इस लॉकडाऊन मे सोशल डिस्टन्सींग का पालन किया जा रहा है.औरंगाबाद मे कोरोना का मरीजों कि संख्या लगातार बढती जा रही है. आमखास मे भरने वाली भाजीमंडी मे खुले तौर पर सोशल डिस्टन्सींग कि धज्जीया उडाई जा रही है. भले ही सब्जी और तरकारी खरीदना लोगो कि मजबुरी और अहम जरुरत है लेकीन इस जरुरत को सोशल डिस्टन्सींग का पालन करते हुए भी पुरी नहीं की जा सकती है.


सोशल डिस्टन्सींग का पालन न करना इसकी सिर्पâ वजह यह हो सकती है कि हम इस कोरोना वायरस को हलके मे ले रहे है या फिर हमे अपनी और अपनी आस पास दुसरे लोगो कि जान कि कोई परवाह नही है. औरंगाबाद मे लॉकडाऊन का जोरो से पालन किया जा रहा है लेकीन क्या एैसी जगहो पर सोशल डिस्टन्सींग का पालन जरुरी नही है? क्या यहा पर लोगो को बताने के लिए कोई नही कि वह अपनी जान कि फिकर करते हुए दुसरे कि जान को भी ज्यादा किमती समझकर कम से कम आज से सोशल डिस्टन्सींग का पालन करे.

2 Responses to "क्या औरंगाबाद में ऐसे रुकेगा कोरोना वायरस, जब आमख़ास मैदान मंडी में उड़ाई जा रही हो सोशल डिस्टन्सिंग दी धज्जिया "

  1. اسکا بس ایک ہی ہل ہے منڈی کو تین نہیں بلکہ ۱۰ ۲۰ ہِسو میں بانٹ دیا جائے ۔ اور اسپر فوری ایکشن کی کا یہ ذمہ ہے ضرورت ہے لہاظا شہرہ اورنگ آباد کے ایم پی

    उत्तर द्याहटवा

Recent

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article