-->
जानिए : मुस्लीम त्योहारों को  एनपीआर की लिस्ट से हटाए जाने का सच,

जानिए : मुस्लीम त्योहारों को एनपीआर की लिस्ट से हटाए जाने का सच,


देशभर मे एनपीआर और एनआरसी का विरोध जारी है । देश के अलग अलग हिस्सो मे इस कानुन का विरोध चल रहा है । इस के चलते कई बार सोशल मिडीया पर कुछ गलत खबरे भी वायरल हो जाती है । लोकसवाल एैसे ही वायरल मैसेज कि पडताल  करता है ।

क्या है वायरल मैसेज मे :- सोशल मिडीया पर एक मैसेज बहोत जोरो से वारयल हो रहा है जिसमे यह कहा जारहा है कि, एनपीआर के मैनुअल फाईल मे मुस्लीम धर्म के त्योहारो के अलावा सभी त्योहार शामील है। भारत देश से यह त्योहार मिटाने कि साजिश है यह दावा इस मैसेज मे किया जारहा है ।

सच क्या है :
वारयल मैसेज मे यह जानकारी सही है कि इस मैनुअल फाईल मे मुस्लीम धर्मो के त्योहार शामील नही है लेकीन सरकार ने एैसा क्यु किया यह इसी मैनुअल फाईल मे बताया गया है ।

Only year of birth is known: In such situations follow the step-wise approach stated below:
i. Record the year of birth.
If the informant tells only the year of birth but is not sure about the month of birth, ask whether the birth was before the rainy season or not. If the birth was before the rainy reason, you may further ask whether the birth was in the month during which some important festivals like New Year’s Day, Guru Gobind Singh Jayanti, Makara Sankranti, Pongal, Republic Day, Basant Panchami, Maharishi Dayanand SaraswatiJayanti, Maha Shivratri, Holi, Gudi Padwa, Ramnavmi, Vaisakhi, Bihu, Mahabir Jayanti, Good Friday Budh Purnima are celebrated and estimate the month of birth. Similarly, if the birth was during or after the rainy reason, you may probe and estimate the month of birth by asking whether the birth was in the month during which some important festivals like, Nagapanchami, Janamashtmi, Raksha Bandhan, Independence Day, Ganesh Chaturthi, Onam, Dussehra, Gandhi Jayanti, Diwali, Bhai Duj, Maharishi Valmiki Jayanti, Chhath Puja, Guru Nanak Jayanti, Ayyappa Festival, Christmas festival are celebrated. For your convenience, a list of important Festivals and corresponding Gregorian months in which they fall is given at Annex V.

जिसका अनुवाद सरल भाषा मे:
केवल जन्म का वर्ष ज्ञात है: ऐसी स्थितियों में नीचे दिए गए चरण-वार दृष्टिकोण का पालन करें: यदि मुखबिर केवल जन्म का वर्ष बताता है, लेकिन जन्म के महीने के बारे में निश्चित नहीं है, तो पूछें कि जन्म बारिश के मौसम से पहले हुआ था या नहीं। यदि जन्म बरसात से पहले हुआ था, तो आप आगे पूछ सकते हैं कि जन्म उस महीने में हुआ था या नहीं जिसके दौरान नए साल का दिन, गुरु गोविंद सिंह जयंती, मकर संक्रांति, पोंगल, गणतंत्र दिवस, बसंत पंचमी, महर्षि दयानंद सरस्वतीजयंती जैसे कुछ महत्वपूर्ण त्योहार हैं। महा शिवरात्रि, होली, गुड़ी पड़वा, रामनवमी, वैशाखी, बिहू, महाबीर जयंती, गुड फ्राइडे बुद्ध पूर्णिमा को मनाया जाता है और जन्म के महीने का अनुमान लगाते हैं। इसी प्रकार, यदि जन्म बरसात के दौरान या उसके बाद हुआ था, तो आप जन्म के महीने की जांच और अनुमान लगा सकते हैं कि जन्म उस महीने में था या नहीं, जिसके दौरान कुछ महत्वपूर्ण त्योहार जैसे नागपंचमी, जन्माष्टमी, रक्षा बंधन, स्वतंत्रता दिवस, गणेश चतुर्थी , ओणम, दशहरा, गांधी जयंती, दिवाली, भाई दूज, महर्षि वाल्मीकि जयंती, छठ पूजा, गुरु नानक जयंती, अयप्पा महोत्सव, क्रिसमस त्योहार मनाया जाता है।  इस लिस्ट का प्रयोग जन्म तारीख या महिना जानने के लिए किया जाऐंगा ।


0 Response to "जानिए : मुस्लीम त्योहारों को एनपीआर की लिस्ट से हटाए जाने का सच,"

टिप्पणी पोस्ट करा

Recent

Advertise in articles 1

advertising articles 2

Advertise under the article